बुधवार, 26 सितंबर 2012

रन्ज का रँग

अरे भई ये तो कैमिकल लोचा है   खुदा ने जब इन्सान की मिट्टी को गूंथा होगा , किस अनुपात से रन्ज का रँग मिलाया होगा । आज भी डैस्टिनी के जरिये कभी थोड़ा कम कभी थोड़ा ज्यादा फ्लो करता रहता है हमारी मिटटी में ।कोई बेवजह उदास है , कोई बहुत तीव्र प्रतिक्रियाएँ देता है । हम तो इसे भावनाओं का खेल समझते थे । दिल जिसे हम हथेली में उठाये घूमते हैं , वो न जाने किन किन प्रक्रियाओं से गुजरता है । हमारे वश में हालात तो नहीं , मगर ये इक्वेशन्स तो हमारे बस में होनी चाहिएँ , क्योंकि इनका रिजल्ट कभी बहुत विस्फोटक भी हो सकता है

और इसके लिए हमें अपना खुदा स्वयं बनना पड़ेगा । जैसे खुदा दूर से सब कुछ देखा करता है , और मुस्कराया करता है ..या फिर जैसे ख़्वाब देखा करते हैं , जागती आँखों से देखना होगा ख़्वाबों को ...
ज़िन्दगी ख़्वाब है ,ख्व्वाब में झूठ क्या और भला सच है क्या .....

किसी ने ज़िन्दगी को ख़्वाब कहा , तो किसी ने ग़मों की किताब कहा । यानि ज़िन्दगी न हुई , चूहे बिल्ली की आँख मिचोली सी हुई । धूप छाया की ठिठोली सी हुई । हम खाम खाँ अपना दिल दाँव पे लगाने को आमादा हैं । 

सब कुछ तो क्षण भँगुर है । आँख खुलते ही परदे से मन्जर बदल जाता है । कभी ज़िन्दगी जुए सी लगती है , जिसके हाथ थोड़े इक्के आ जाएँ , दुनिया सलाम ठोकती हुई सी लगती है । ज़रा सी हार पर दिवाला पिटा सा लगता है । ज़िन्दगी सज़ा भी नहीं , बेशक कज़ा भी नहीं , और बेवफा भी नहीं , और फिर उम्र के त्यौहार में रोना भी तो मना है ।  

कौन सा रसायन रगों में दौड़ने लगता है कि दिल दिमाग की बात मानने से इन्कार कर देता है  । फिर दिमाग पंगु हो जाता है , दिल अपना ही दुश्मन बना ,बिच्छू की तरह अपनी ही पूँछ खाने लग जाता है  । हाँ भई , डाक्टर की भाषा में कुछ हार्मोन्ज ऐसे सिकरीट होने शुरू हो जाते हैं जो आदमी को गहरी उदासी में धकेल देते हैं  । हम इलाज   में लग जाते हैं , मगर कारण की तरफ ध्यान नहीं देते  । मिट्टी लीप लीप कर सतह को साफ़ दिखाते रहते हैं , मगर अन्दर इक ज्वालामुखी हलचल में रहता है, और मौका पाते ही विस्फोट कर सब तहस नहस कर डालता है  । 

किशोरावस्था आते आते हार्मोन्ज अपना खेल दिखाने लगते हैं  । अपनी वय के लोग , विपरीत सेक्स में आकर्षण जो तकरीबन कम ज्यादा सारी उम्र बना रहता है  । धीरे धीरे माँ  के आँचल से लगाव कम हो जाता है  । जहाँ जितना जुड़ाव होता है , चाहे वो रोजगार से सम्बंधित हो या रिश्तों से ,उम्मीद भी ज्यादा होती है , फिर फ्रस्ट्रेशन भी ज्यादा होता है  । परिस्थितियाँ मय इन्सानों के इस कैमिकल लोचे को ट्रिगर करते रहते हैं  । 

इस कैमीकल लोचे की शुरुआत कहीं हमारे भीतर से ही हुई होती है , इसको परवरिश भी हमारे ही मन ने दी हुई होती है  एक हद तक हम अपनी किस्मत खुद लिखते हैं  । हालात कितने भी बदतर क्यों न हों , अपने अन्दर बैठे खुदा के नूर को हमें पहचानना होगा  । दुनिया में बहुत कुछ होता है पर क्या खुदा अपने बन्दों से मुँह मोड़ लेता है  । प्रकृति की अवहेलना नहीं कर सकते , प्रकृति के साथ झूमना साखिये  । 

6 टिप्‍पणियां:

  1. ज़िंदगी एक एसा शब्द है जिसके विषय में शायद जितना भी लिखा जाये कम ही होगा। वैसे तो ज़िंदगी को लेकर सबका अपना-अपना नज़रिया होता है लेकिन वो कहते है न
    "ज़िंदगी ज़िंदा दिली का नाम है मुर्दा दिल क्या ख़ाक जिया करते है"
    मेरी नज़र में बस यही असल अर्थ है ज़िंदगी का...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा आपने पल्लवी जी , मुर्दा दिल क्या खाक जिया करते हैं ...इसीलिए सारी जद्दो जहद... सारी कवायदें ज़िन्दगी के लिये ही तो हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. नूर और नाद में ही है असली बात। वही है केमिकल,उसी का अभाव है लोचा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच कहा , राधा रमण जी , आप तो मन के भी डॉक्टर हैं ...

    सच कहा आपने पल्लवी जी , मुर्दा दिल क्या खाक जिया करते हैं ...इसीलिए सारी जद्दो जहद सारी कवायदें ज़िन्दगी के लिये ही तो हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आप को आमंत्रित किया जाता है। कृपया पधारें आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

      हटाएं
  5. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आप को आमंत्रित किया जाता है। कृपया पधारें आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    उत्तर देंहटाएं