मंगलवार, 31 अगस्त 2010

परवरिश ( parenting )


बच्चों का पालन-पोषण
आज जब औरतें पुरुषों के साथ कन्धे से कन्धा मिला कर चल रहीं हैं , परिवार विघटन की ओर हैं , ये स्वाभाविक है कि बच्चों के पालन पोषण के लिए कम वक़्त मिले |
बगीचा लगाना आसान है , माली की तरह परवरिश करना कठिन है | पौधों को कितनी खाद , कितना पानी , कितनी धूप-छाया , कैसी जमीन चाहिए ये माली का फ़ैसला होता है | इसी तरह बच्चों को कितना लाड़-दुलार , कितना अनुशासन , कितना आहार , कैसा व्यवहार देना है , ये माता-पिता का फ़ैसला होता है |
परिवार छोटे होने से व माओं के नौकरी-पेशा या व्यवसाई होने के कारण वक़्त की भी कमी हो गई है , ऐसे में किन बातों का ध्यान रखें कि बच्चों का सही पालन-पोषण हो सके ताकि वो एक ऑल-राउन्ड व्यक्तित्व के रूप में उभरें और हम अपने कर्तव्य निभाते हुए एक संतुलित व्यक्तित्व बन कर दोनों ओर सामंजस्य बिठा सकें ?
१। बच्चे की हर छोटी बड़ी जरुरत का ध्यान रखते हुए उसे सुरक्षा की भावना से भर दीजिये | आपकी अनुपस्थिति में भी उसे असुरक्षा नहीं महसूस होनी चाहिए , उसे लगना चाहिए कि हर परेशानी में आप उसके साथ हैं | कई बार उसे दूसरों के जैसे कि क्रच में भेजना पड़ता है , उसकी जरुरत का सामान , पसंद की चीजें उसके साथ जरुर रखें |
२। अपने आचरण से बच्चे को नैतिक मूल्य सिख्लाइये | छोटी-छोटी बातों पर बिगड़ना , आक्रोश , आडम्बर या जाने अन्जाने झूठ बोलना , मानवीय मूल्यों को पीछे रखना है | बच्चे के लिए माता-पिता रोल मॉडल होते हैं , नक़ल कर के सीखने में उन्हें देर नहीं लगती , कहने से ज्यादा कर के दिखाना आसान और प्रभाव-शाली तरीका है |अगर आप बच्चे से कहते हैं कि कोई फोन आए तो कह देना कि हम घर पर नहीं हैं , तो ये उसे कन्फ्यूज कर देगा , क्योंकि वैसे आप उससे कहते होंगे कि झूठ बोलना पाप है और ख़ुद झूठ बोल रहें हैं |
३। बच्चों से बहुत बड़ी बड़ी अपेक्षाएं मत रखिये | हर बच्चा एक अलग विशेषता लिए , अलग अलग शारीरिक व मानसिक क्षमता वाला होता है | सफलता बहुत कुछ अवसर पर भी निर्भर करती है , इसलिए आप अपने कर्तव्य से पीछे न हटें | बड़ी अपेक्षाओं पर खरा न उतरने पर निराशा पैदा होती है |
४। 'ये न करें , वो न करें ' वाली भाषा की जगह 'ये करें , वो ऐसे करें ' वाली भाषा का प्रयोग करें | नकारात्मक भाषा से बच्चा चिढ़ने लगता है , इसलिए अच्छा है कि हर बात का सकारात्मक पहलू दिखाया जाय |
५। हर अच्छे काम पर बच्चे की पीठ जरुर थपथपाएं , बड़े बड़े उपहार देने का लालच बच्चे को बिगाड़ सकता है , वो पलट कर माँ बाप को ब्लैक मेल भी कर सकता है , ये दिलाओ तो ये कर दिखाऊंगा , वो ऐसा कह सकता है | जरुरत की चीजें दिलाने में (अपनी चद्दर के अन्दर ) कोई हर्ज तो नहीं है , पर इससे उसकी दिशा भटक सकती है , भौतिक सुख-सुविधाएं ही सब कुछ हैं , ऐसा सोच कर वो बड़ी आसानी से यानि छलाँग लगा कर इन्हें पाना चाहेगा , मेहनत नहीं करना चाहेगा जो काम लाड़ से दी गई थपकी कर सकती है , वो जादू इन चीजों में नहीं है यानि बच्चे को साहस से भर दीजिये |
६। दूसरे बच्चों के साथ व भाई-बहनों की आपस में न तो तुलना कीजिये न ही पक्षपात करिए तुलना करने से द्वेष पनपने लगता है , बच्चा हतोत्साहित होगा |
७। बच्चों पर कभी भी शारीरिक बल का प्रयोग नहीं करना चाहिए , पीटने से बच्चे ढीठ हो जाते हैं जो काम प्रेम कर सकता है , वो बल प्रयोग से नहीं हो सकता |
८। बच्चे के साथ आपका रिश्ता मित्रवत हो , ताकि वो आपके साथ हर बात बांटे । आहार , व्यवहार , विचार , व्यायाम , अनुशासन , सब अपने व्यवहार से सिखलाइये । ये चीजें सुनने में भारी लगतीं हैं मगर अगर कर्तव्य के प्रति सच्चा समर्पण है तो ये भारी नहीं हैं ।
९। सही ग़लत की पहचान कराने के बाद , कोशिश करें , कभी कभी अनदेखी करने की , ताकि वो स्वतन्त्र क़दमों से भी चल सके | हर वक्त आप उसके साथ नहीं होंगे , वो अपने क़दमों से यानी अपने सहारे चल कर एक मजबूत व्यक्तित्व के रूप में उभरे , इसके लिए कुछ निर्णय उसे ख़ुद लेने दें | हर जरुरत के वक्त पथ-प्रदर्शक की तरह आप उसके साथ हैं ही |
१०। बच्चों को पढ़ाई या किसी न किसी कलात्मक या रुचिपूर्ण काम में व्यस्त रखें ताकि वो खालीपन या बोर होने की शिकायत न करें | खाली दिमाग ही शिकायतें करता है |
११। खाना पौष्टिक , हाइजीनिक व विविधता लिए होना चाहिए , ये तो हर माँ बाप जानता है | जंक फ़ूड से बचना चाहिए | खाने में सारे फ़ूड ग्रुप्स होने चाहिए ; फल ,सब्जी , दूध , दालें, अनाज , मेवे , इत्यादि |
१२। अपना तनाव बच्चों पर कभी न उतारें , उन्हें समझ ही नहीं आएगा कि उन्होंने क्या और कितनी भारी गलती की | उन्हें बेवजह सजा मत दीजिये |
१३ , जब भी कभी कोई समस्या खड़ी हो जाए , उसे स्वीकार करें , बच्चे के साथ मिल कर उसका हल ढूँढें | जिंदगी को सहज बनाएं , और ज्यादा परेशानियों को निमंत्रण न दें |
१४। आज में जीना सिखाएं , वर्तमान का भरपूर आनन्द लें , खुशी मनाने का कोई भी मौका हाथ से न जाने दें | बच्चे के साथ मौज मस्ती के लिए वक्त जरुर निकालें ताकि वो आपके साथ वक्त बिताने के लिए उत्सुक रहे |
बचपन आशीर्वाद है , अपने किसी कर्तव्य से पीछे न हटें | ये आपका रास्ता है , जैसे रेलगाड़ी को एक पटरी मिली होती है , इस ट्रैक पर आपको चलना है | ये आप पर है कि आप इसे कितना सहज , कितना सुंदर बनाते हैं | आप चुने गए हैं इस काम के लिए , किसी भी परिस्थिति से पीछे न हटें |


Parenting In the age of today where women and men are working equals,family size is becoming smaller , it is natural that the time to raise children is getting lesser and lesser.
It is easy to plant a garden,whats tough is to nurture the garden.For the amount of manure ,water,sun light exposure required by a plant is known only to a gardner,it is all done based on his judgement.Exactly the same way it is a parent who decides the quantity of love,affection,diet given - discipline,mannerism to be taught to their child.
Nuclear families with working moms has created a shortage of time .In such a scenario, what are the key factors to be kept in mind so that the child is nurtured to be an all rounder and we are able to carry out our duties,striking the right balance between the personal and professional front ?
) Keep in mind all big small wants of the child,make him/her feel secure.Even in your absence he shouldn't feel insecure,he should feel that you will take care of everything,be around him in all troubles.There are times you may have to leave the child with someone else for example in a crutch -make sure things he likes or needs should be with him.
2)Your behaviour teaches moral value to the child.Getting angry on little things,irritation,pride ,knowingly or unknowingly spoken lies are all like keeping moral values behind.For a child his parents are the role models,learning by seeing is easier for the kids.Teaching by actions is more effective than teaching by words.if you and your spouse never use words like 'sorry' 'thank you' 'please' while interacting with eachother and still try teaching a child to do so.It will confuse him as you are not practising what you want to teach .
3।Do not keep very high expectations from the child.Every child is special -has his own talents,mental and physical strength.Success is determined by very few oppurtunities so you should not fail on your duty.


4 ' Do this,d'ont do that' instead of using phrases of the kind , use phrases like 'do this,do that like this'.Pesimistic approach irritates a child so it is better to show the optimistic face of everything to him.
5) You need to give a pat on the back to the child for evrything good he does.Giving big gifts can lure him towards wrong.He may even try to blackmail by saying i would do this if i get this , else i wouldnt.Providing a thing required (within your budget) is not wrong but this may misdirect him.He may perceive that materialistic gains are everything,thinking of which he may want a easy jump to get them.Would not prefer working for it.The magic that an affectionate pat on back can do , cannot be done by such gifts.It is important to develop courage in the child.
6) Do not compare your child with others or even with the siblings,neither should you be biased towards any one.Both lead to jealousy and the child loses self confidence.
7)Do not use physical strength on your child,hitting a child will only result in stubbornness..Something that can be done by love cant be done by force.
8) Keep a friendly realtionship with your child so that he can share things with you.Behaviour ,thoughts ,excercise, discipline should be all a part and parcel of your nature.These things sound heavy but if you work towards your duty with full devotion then these things are simple.
9) After teaching him the identification of right and wrong,try to give him the opportunity to take his own decisions and be a silent observer sometimes. you may not accompany him in everything,he should be able to move on his own ,only then can he have a strong personality.In case he needs support you are there to guide him.
१०)Try to keep the child busy with something creative or anything that interests him.He shouldn't complain of boredom.Only an empty mind cribs.

११)Food should be healthy,hygeinic and should have variety to it.This is known to all the parents.Junk Food should be avoided.All food groups should be covered in the diet : fruits , vegetables , milk , cereals ,pulses ,dry fruits etc .
१२) Do not release your tension or stress on the child. He would fail to understand where he went wrong .Do not punish him without a mistake.
१३) Whenever a problem arises ,accept it and try looking for its solution involving the child. Make life easier and do not add complexities to your life.
14) Learn to live in present,make most of today,do not loose any oppurtunity to enjoy.Make sure to spend time with your child so that he looks forward for being with you.
Childhood is a boon,do not step back on any of your duty.This is your way-like a train has an assigned track and has to move on it.It is upto you to make it easy and fun.It is you who has been selected for this work,do not hesitate to face situations.