बुधवार, 18 जनवरी 2012

अण्डमान , काला पानी या नीला पानी



३१-दिसंबर-२०११



नीचे गहरे स्लेटी बादल जल्दी ही बर्फ के रँग में बदल गए , जैसे किसी ने मक्खन या क्रीम फेंट कर ऊँची-नीची सी चारों तरफ बिखरा दी होसामने हल्की पीली और नारंगी दो रँगों की लकीर सी सूर्योदय की तरफ अग्रसर होती हुई सुबह की सूचना दे रही थीप्लेन की खिड़की से दिखता अदभुत दृश्य थासुबह साढ़े पाँच से पौने छः के बीच का वक्त ....जल्दी ही बादलों के ऊपर धूप निखर आई थीपीली नारंगी रँग की लकीर अब गायब हो गई थीबस पन्द्रह मिनट बाद ही बादलों की मोटी परत को चीरता हुआ प्लेन अण्डमान निकोबार द्वीप समूह के ऊपर चक्कर काट रहा थाएक एक टापू हरा भरा चारों तरफ पानी से घिरा हुआ नजर रहा थायहाँ तक कि तट के किनारों की तरफ उठती हुईं समुद्र की लहरों को भी साफ़ साफ़ देख पा रहे थे हम



पोर्ट ब्लेयर यहाँ का एकमात्र ऐसा टापू है जिस पर हवाई अड्डा हैवीर सावरकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा , ये नाम इसे इसलिए दिया गया कि वीर सावरकर महान देश भक्त और क्रांतिकारी यहीं सेल्युलर जेल में बंद रहेजेल की अँधेरी कोठरी पल पल आगे बढ़ती काल की आहट किसी का भी मन विचलित करने के लिये काफी होती हैकिस जज्बे से वो हर सख्ती का सामना कर सके और अपने साथियों के लिये जोश का एक उदाहरण बन सकेपोर्ट ब्लेयर की धरती ये कहाँ जानती थी कि इसी वीर सावरकर के नाम से हवाई अड्डा बनेगा और ये नाम हमेशा के लिये अमर हो जाएगा



जेल के प्रांगण में यहाँ आने वाले पर्यटकों की जानकारी के लिये रोज .३०बजे शाम एक लाईट एंड साउंड शो दिखाया जाता हैजिसमें बाईं तरफ उगे पेड़ की नजर से उस वक्त की आँखों देखी कहानी कही गई है , जो कि पुरी की आवाज में हैप्रस्तुति मार्मिक है , हमारी राष्ट्रीय धरोहर सेल्युलर जेल के निर्माण , ब्रिटिश राज और कैदियों पर सख्ती व् बर्बरता की कहानी के बारे में है



अण्डमान का कोना कोना खूबसूरत , जिस एंगल से भी फोटो खीचो , अदभुत ही होती है । इतनी खूबसूरत जगह और नाम दिया गया था काला पानीसच ही है अपने घर से दूर , अपनी धरती से दूर , जहाँ से कभी वापसी की उम्मीद ही न हो , जहाँ का नीला पानी कैदियों के लाल खून से काला नजर आता हो , उस जगह को और क्या नाम दिया जा सकता था



शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले
वतन पर मिटने वालों का , यही बस आखिरी निशाँ होगा



दूर दूर से आने वाले पर्यटक जब यहाँ इकट्ठा होते हैं तो किसी मेले से कम नहीं लगतामन जैसे द्रवित हो कर देश भक्ति से ओत प्रोत हो जाता है

10 टिप्‍पणियां:

  1. याद दिलाने के लिए शुक्रिया , सार्थक पोस्ट , आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com/2012/01/763.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सार्थक जानकारी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही बढ़िया चित्र खींचा है आपने अपनी इस यात्रा का मेरा तो पढ़कर ही मन देश भक्ति की भवाना से भर गया और हाथ अपने आप ही सहसा उठ गए सल्युट करने के लिए उन माहन स्वतंत्रता सेनानाइयों के लिए जिन्होने देश के लिए क्या-क्या नहीं सहा...आभार समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका सवागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. Kash hamare naam ka bhi koi sthal banaya jaye ( Wo samadhi sthal jarur ho sakta hai). Aisa bahut hi muskil hai, ha ha ha

    Sandeep singh ( @sanialld twitter)

    उत्तर देंहटाएं
  6. ...deshbhakton ki shahaadat aur KaalaPaani ka wrattant, jaisa aapne likha hai, use parh kar hraday dravit ho uthaa hai..! Bahut sundar, Shardaa!

    उत्तर देंहटाएं