मंगलवार, 10 फ़रवरी 2009

वैराग्य और नैराश्य में अन्तर

वैराग्य और नैराश्य दोनों में इन्सान दुनिया से विरक्त होता जाता है । वैराग्य में दुनिया से दूरी , प्रभु का सामीप्य पाने के लिए होती है । नैराश्य में दुनिया से दूरी दुनिया से भागने के लिए होती है , यानि व्यक्ति इस दुनिया से हार मान कर , अपनी परिस्थितियों से न तो समझौता कर पा रहा है , न ही लड़ पा रहा है । वैराग्य में , प्रभु के होने का , प्रभु से मिलने की लालसा का अहसास बड़ा खुशनुमा होता है ।
कुछ धर्मों में ईश्वर को साकार रूप में नहीं पूजा जाता , उन्हें निराकार रूप में सबमें विद्यमान आत्मा के रूप में माना जाता है । नास्तिक लोगों को भी ये तो मानना ही पड़ेगा कि एक अदृश्य शक्ति है जो हमारे कर्मों का लेखा-जोखा रख रही है , सब कुछ हमारे हाथ नहीं है । जब तक आप चढ़ती कला में हैं , आप नास्तिकता का बखान कर सकते हैं । जैसे ही वक़्त की गर्दिश आयेगी , आप सहारा खोजेंगे ईश्वर के अस्तित्व (शक्ति) को न मानना बिना नींव के खड़े होने जैसा है । ईश्वर के होने का अहसास बड़ा सुंदर है । आपकी दुनिया आबाद है माता , पिता , साथी , भाई-बहनों ,बच्चों और दोस्तों से । हर एक की अपनी जगह है , इनमें से एक भी बिछड़ता है तो हमें उसकी कमी महसूस होती है । ईश्वर वो परम शक्ति है , वो सच्चा हितैषी है , जिसे महसूस करते ही हमारे दिल में उजाला फ़ैल जाता है , उसके होने का अहसास बड़ा सुखद है । ज़रा ईश्वर भक्ति में पहुंचे हुए लोगों के मुखमंडल देखिये , कैसे आभावान ,ओज और तेजस्विता से चमकते हुए , बच्चों के से निश्छल प्यार से दमकते हुए । ये लोग पवित्रता से ईश्वर से जुड़े हुए हैं ।
वैराग्य में ईश्वर से जुड़ने के लिए आशा की किरण है । नैराश्य में आप किसी से जुड़ने नहीं जा रहे , न ही कोई आशा है , आप तो निराशा के गर्त में ख़ुद को धकेल रहे हैं । ये पलायन है और वो जुडाव है । ये पतन है और वो उत्थान है । निराशा में आपको कर्म और भक्ति से जुड़ना चाहिए । शुभता के साथ किए हुए कर्म ईश्वर भक्ति ही हैं ।




वैराग्य और नैराश्य ये सिर्फ शब्द नहीं हैं , इस पर पूरा ग्रन्थ लिखा जा सकता है । इन्हीं दो शब्दों ने मुझे धकेल कर कलम उठाने पर मजबूर किया , यही मेरा पहला लेख है । ये लेख तो मन में उठते हुए सौ सवालों के प्रतिफल स्वरूप उपजा है ।इन्सान की जिन्दगी इन्हीं दो शब्दों के आस पास कई बार भटकती है । हर इंसान तनाव और नैराश्य से कई बार दो चार होता है और ढूँढता है जीवन में आनन्द का कोई स्थाई स्त्रोत । वैराग्य की शरण में जाता भी है तो भी आनन्द पाता नहीं है । असल बात ये है कि वैराग्य का सही मतलब समझने के लिये इक उम्र खर्चनी पड़ती है , इक तप करना पड़ता है । वैराग्य दुनिया से दूर जाना है ही नहीं ; सही अर्थों में वैराग्य वस्तु , स्थान , व्यक्ति और भाव से भी आसक्ति के त्याग का नाम है । संसार में रहते हुए भी जब मान मद मोह हानि लाभ का असर आप पर न हो , तब कैसी भी स्थिति क्या आपको विचलित कर पाएगी ? तब संसार आपको एक लीला (ड्रामा ) की तरह नजर आएगा । और लीला करने करने वाले के भेद को समझते हुए आप वाह वाह कर उठेंगे । स्थाई आनन्द है ही अपने रूप में टिक जाने का नाम , एक थर्मोस्टेट जैसा ..सर्दी गर्मी दुःख सुख में एक नियंत्रित तापमान बरकरार रखने वाला ।
हाँ दुनिया के ताप यानि सारी विषम परिस्थितियाँ , सारी ठोकरें भी सार्थक हैं जो आपको धकेल कर ये पाठ पढ़ा कर एक दिशा देना चाह रही हैं । कितना बड़ा भेद है जो हम इन खुली आँखों से नहीं देख पाते , जिसके लिये अन्दर की आँखें यानि ज्ञान चक्षु खोलने पड़ते हैं । ध्यान ये रखना है कि हम खुद को गढ़ पायें न कि टकरा कर टूट जाएँ ।



मेरे इस लेख पर वैराग्य और नैराश्य के कुंजीपटल से कई पाठक गण आए ...अगर हो सके तो अपनी उपस्थिति टिप्पणी के माध्यम से दर्ज करायें । शुक्रिया ...

9 टिप्‍पणियां:

  1. दृष्टिकोण अच्छा लगा।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस नये ब्लॉग का हिन्दी चिट्ठाकारी में हार्दिक स्वागत है. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाऐं. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वागत ब्लॉग परिवार में.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर विचार..........
    ब्लाग जगत में आपका स्वागत है.
    खूब लिखें,अच्छा लिखें...........

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर विचार .......... अच्छे तरीके से दोनों बातों के अन्तर का निवारण

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज आपका ब्लॉग देखा....... बहुत अच्छा लगा. मेरी कामना है की आपके शब्दों को नए अर्थ, नई ऊर्जा और विराट सामर्थ्य मिले जिससे वे जन सामान्य के सरोकारों की अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम बन सकें.....
    कभी समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर पधारें-

    http://www.hindi-nikash.blogspot.com

    सादर-
    आनंदकृष्ण, जबलपुर

    उत्तर देंहटाएं